नीतीश सरकार ने अपनाया कड़ा रुख, बालिका गृह कांड में दोषी करार रोजी रानी को किया बर्खास्त

February 29, 2020
क्राइम
,
0

PATNA: मुजफ्फरपुर बालिका गृह कां'ड में दो'षी करार दी गई जिला बाल संरक्षण इकाई की तत्कालीन सहायक निदेशक रोजी रानी को राज्य सरकार ने बर्खास्त कर दिया है. शुक्रवार को समाज कल्याण विभाग के विशेष सचिव दयानिधान पांडेय ने सेवा से बर्खास्त करने का आदेश जारी किया.

दरअसल 15 जून 2018 को रोजी रानी को निलंबित कर दिया गया था. उस पर आ'रोप है कि मार्च 2014 से मार्च 2017 के बीच अपने तीन साल के कार्यकाल के दौरान अपने निरीक्षण रिपोर्ट में मुजफ्फरपुर जिले में चल रहे बालिका गृहों में बच्चियों के साथ हिं'सा, यौ'न दु'र्व्यवहार और यौ'न उ'त्पीड़न समेत किसी गंभीर घ'टना का उल्लेख नहीं किया. इस दौरान रोजी ने सेवा संकल्प एवं विकास समिति द्वारा संचालित बालिका गृह का 11 बार निरीक्षण किया. लेकिन, अपनी किसी रिपोर्ट में उन्होंने कोई प्रतिकूल टिप्पणी नहीं की.



रोजी रानी पर तथ्यों को छिपाने और सरकार को गुमराह करने का आ'रोप है. इसके अलावा इनकी रिपोर्ट के आधार पर ही दो'षी संस्थाओं को सरकारी अनुदान का भुगतान होता रहा. रोजी रानी के खिलाफ आ'रोपों की जांच कर रही कमेटी ने उनके जवाब को अस्वीकृत कर दिया और बिहार लोकसेवा आयोग की सहमति के बाद ब'र्खास्तगी का आदेश जारी किया.

बालिका गृह कांड में जांच कर रही सीबीआई शहर की 4 महिलाओं समेत सात लोगों से पूछताछ करेगी. यह सभी ब्रजेश ठाकुर की संस्था एवं बालिका गृह में कर्मचारी रह चुके हैं. सीबीआई ने गुरुवार को इन सभी के संबंध में जिला बाल संरक्षण इकाई में छानबीन की थी. सहायक निदेशक उदय झा से सभी सातों का ब्योरा लिया. सहायक निदेशक ने बताया कि पूर्ववर्ती नर्स, स्वीपर, ट्वीटर और व्यवसायिक प्रशिक्षकों के बारे में जानकारी ली गई है. इस कां'ड में सीबीआई ने अब तक डॉक्टर प्रमीला की तलाश नहीं कर पाई है. हालांकि उसे फ'रार बताते हुए चार्जशीट दाखिल की गई है.

Hey, like this? Why not share it with a buddy?

Related Posts

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here