रंग लाया मिथिलावासियों का #DarbhangaAirport कैम्पेन, केंद्रीय मंत्री ने बताया कब ख़त्म होगा काम

May 11, 2020
अन्य बड़ी खबरें , जिलाटॉप
,
0

पटना (अंजनी पांडेय) : बिहार के मिथिला क्षेत्र (Mithila Bihar) के निवासियों के लिए बहुप्रतीक्षित दरभंगा एयरपोर्ट (Darbhanga Airport) का निर्माण कार्य इस साल अक्टूबर माह तक पूरा हो सकता है. केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) हरदीप सिंह पूरी ने यह जानकारी दी है. उन्होंने कहा है कि दरभंगा एयरपोर्ट (Darbhanga Airport) का काम पूरी गति से चल रहा था जिसे कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए लगाए गए देशव्यापी लॉकडाउन की वजह से रोक देना पड़ा था. अब भारतीय वायुसेना से रुके हुए काम को दुबारा शुरू करने की अनुमति मांगी गयी है.

केंद्रीय मंत्री ने ट्वीट कर दरभंगा एयरपोर्ट की अद्यतन स्थिति की जानकारी देते हुए कहा है कि अंतरिम सिविल एन्क्लेव का काम अंतिम चरण में है. इसमें 150 यात्रियों की क्षमता वाला टर्मिनल बिल्डिंग का काम 95% हो गया है जबकि एयरबस साइज़ के दो प्लेन के लिए हैंगर बनाने का काम भी आधा हो चुका है. उन्होंने कहा कि एक बार काम शुरू हो जाए तो फिर अक्टूबर 2020 तक इसे ख़त्म कर लिया जाएगा. हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि एयरपोर्ट से उड़ानें कब शुरू होंगी.



टॉप ट्रेंड बना #DarbhangaAirport

बता दें कि दरभंगा एयरपोर्ट से उड़ान शुरू होने को लेकर मिथिला क्षेत्र के लोग कई दिनों से सोशल मीडिया पर सवाल कर रहे हैं. रविवार को ही सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म ट्वीटर पर हैशटैग ‘दरभंगा एयरपोर्ट’ (#DarbhangaAirport) राष्ट्रीय स्तर पर ट्रेंड कर रहा था. इसपर एक लाख से ज्यादा ट्वीट किये गए थे. मिथिला क्षेत्र के कई युवाओं ने इस टॉपिक पर काफी बढ़चढ़ कर ट्वीट किया जिसमें केंद्र और राज्य सरकारों से एयरपोर्ट के निर्माण में देरी के बहाने इस क्षेत्र में विकास के अवरुद्ध होने पर सवाल किये गए. साथ में एयरपोर्ट के निर्माण से मिथिला क्षेत्र में होने वाले विकास की संभावनाओं पर बात की गयी.

कई यूजर्स ने इस इलाके के इतिहास को भी याद किया जिसके अनुसार दरभंगा में एयरपोर्ट आजादी के पहले से मौजूद था. इसे तत्कालीन महाराज कामेश्वर सिंह ने बनवाया था. उनकी कंपनी ‘दरभंगा एविएशन’ के पास तीन विमान थे जिसे उन्होंने आजादी के बाद भारतीय वायुसेना को दे दिया था.

मई 2019 थी पहली डेडलाइन

दरभंगा एयरपोर्ट का निर्माण कार्य प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की महत्वकांक्षी ‘उड़ान’ योजना के अंतर्गत किया जाना है. इसका शिलान्यास 24 दिसंबर 2018 को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, तत्कालीन केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने संयुक्त रूप से किया था. उस वक़्त एयरपोर्ट निर्माण कार्य को 31 मई 2019 तक पूरा किये जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था. इसके बाद जून माह से हवाई सेवा की शुरुआत भी होनी थी. हालांकि विभिन्न कारणों से यह तारीख बढ़ती रही.

बीते साल नवंबर माह में सीतामढ़ी के सांसद सुनील कुमार पिंटू ने संसद में इससे संबंधित सवाल किया था, जिसके जवाब में मंत्रालय ने मार्च 2020 से दरभंगा एयरपोर्ट के शुरू होने की उम्मीद जतायी थी.

बिहार का तीसरा एयरपोर्ट

यात्री सेवा प्रारंभ होने के बाद ‘उड़ान’ योजना के अंतर्गत यह बिहार का पहला और सामान्य तौर पर तीसरा एयरपोर्ट बन जाएगा. इस एयरपोर्ट से शुरूआती दौर में निजी कंपनी स्पाइसजेट द्वारा बेंगलुरु, नयी दिल्ली और मुंबई तक सीधी सेवा उपलब्ध कराने का फैसला किया गया है. विशेषज्ञों का मानना है कि इस एयरपोर्ट से यात्री सेवा शुरू होने के बाद न सिर्फ इस इलाके बल्कि पूरे मिथिला क्षेत्र का विकास होगा.

बता दें कि भारतीय वायुसेना बेस पर फिलहाल 92 करोड़ की लागत से करीब 15 हजार वर्गफीट एरिया में दरभंगा एयरपोर्ट के टर्मिनल बिल्डिंग का निर्माण हो रहा है. इसके अलावा नजदीकी रानीपुर-बिहटवारा इलाके में करीब 31 एकड़ भूमि के अधिग्रहण के लिए बिहार सरकार ने 121 करोड़ रुपयों का प्रावधान किया है. इस इलाके में एयरपोर्ट के लिए नई टर्मिनल बिल्डिंग, कार्गो, पार्किंग स्पेस और अन्य जरूरी सुविधाओं का विकास किया जाएगा.

Hey, like this? Why not share it with a buddy?

Related Posts

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here