जानें ऐसा क्या हुआ कि चुनाव के तुरंत बाद ही JDU ने आधा दर्जन से अधिक कार्यकारी जिलाध्यक्ष को हटाया ?

December 1, 2020
जिलाटॉप
, , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,
0

Patna:विधानसभा चुनाव खत्म होने के बाद जनता दल यूनाइटेड में सांगठनिक बदलाव के संकेत मिलने शुरू हो गए हैं। चुनाव में बेहतर प्रदर्शन नहीं करने के बाद अब जेडीयू जिला स्तर पर संगठन में बदलाव की तरफ से आगे बढ़ सकता है। पार्टी ने सबसे पहले चुनाव के दौरान मनोनीत किए गए कार्यकारी जिलाध्यक्षों को पद मुक्त कर दिया है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह के निर्देश पर ऐसे 7 कार्यकारी जिलाध्यक्षों को पद से हटा दिया गया है जिन्हें चुनाव के दौरान जिम्मेदारी मिली थी।

दरअसल इन सभी कार्यकारी जिलाध्यक्षों को चुनाव के दौरान मनोनीत किया गया था। वैसे जिले जहां पार्टी के जिलाध्यक्ष चुनाव लड़ रहे थे वहां तत्काल प्रभाव से कार्यकारी जिलाध्यक्षों का मनोनयन किया गया था और अब इस मनोनयन को निरस्त कर दिया गया है। अब यह सभी अपने पुराने पदों पर काम करेंगे।

जेडीयू के प्रदेश महासचिव नवीन कुमार आर्य ने बताया है कि सारण के जयप्रकाश यादव, दरभंगा के अजीत चौधरी, समस्तीपुर के दुर्गेश राय, सुपौल के राजेंद्र प्रसाद यादव, जमुई के इंजीनियर शंभू शरण, रोहतास की अरुणा देवी और ग्रामीण के कार्यकारी जिलाध्यक्ष अशोक कुमार सिंह का मनोनयन निरस्त कर दिया गया है। इन जिलों के जिलाध्यक्ष विधानसभा के चुनाव लड़ रहे थे। इनमें अल्ताफ राजू, अजय चौधरी, अश्वमेघ देवी, रामविलास कामत, दामोदर रावत, नागेंद्र चंद्रवंशी और अरुण मांझी शामिल थे। कई जिलाध्यक्षों को चुनाव में जीत मिली है और कई को हार का भी मुंह देखना पड़ा है। पार्टी ने जो आदेश जारी किया है उसके मुताबिक अब सभी जिलाध्यक्ष पूर्व की भांति अपना काम संभालेंगे।

Hey, like this? Why not share it with a buddy?

Related Posts

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here